पढ़ाई और जीवन में क्या अंतर है? स्कूल में आप को पाठ सिखाते हैं और फिर परीक्षा लेते हैं. जीवन में पहले परीक्षा होती है और फिर सबक सिखने को मिलता है. - टॉम बोडेट

Sunday, August 22, 2010

चीफ जस्टिस एसएच कपाडिय़ा ने राजस्थान उच्च न्यायालय के मुख्यपीठ भवन में ज्यूडिशियल एकादमी की वेबसाइट का लोकार्पण किया

भारत के चीफ जस्टिस एसएच कपाडिय़ा ने रविवार सुबह यहां राजस्थान उच्च न्यायालय के मुख्यपीठ भवन में ज्यूडिशियल एकादमी की वेबसाइट एवं जनरल का लोकार्पण किया। इस अवसर पर राजस्थान उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश जगदीश भल्ला सहित न्यायिक अधिकारी मौजूद रहे।

इसके बाद कपाडिय़ा ने कॉन्फ्रेंस हाल में अधीनस्थ अदालतों के न्यायाधीशों से न्यायिक मुद्दों पर गंभीर मंत्रणा की। दोपहर डेढ़ बजे वे सर्किट हाउस चले गए। शाम करीब पांच बजे उनका ओसियां जाने का कार्यक्रम है। उधर, चीफ जस्टिस की जोधपुर यात्रा को देखते हाईकोर्ट परिसर में सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए थे। सर्किट हाउस एवं अदालत में परिसर में किसी बाहरी व्यक्ति आने पर पूरी तरह से प्रतिबंध रहा।

1 टिप्पणियाँ:

रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" said...

अगर उपरोक्त समाचार में ज्यूडिशियल एकादमी की वेबसाइट का नाम व पता दिया जाता तब उसको देखकर जानकारी प्राप्त की जा सकती थी.

इन्टरनेट या अन्य सोफ्टवेयर में हिंदी की टाइपिंग कैसे करें और हिंदी में ईमेल कैसे भेजें:- देखें मेरा ब्लॉग http://rksirfiraa.blogspot.com अच्छी या बुरी टिप्पणियाँ आप करें और अपने दोस्तों को भी करने के लिए कहे.अपने बहूमूल्य सुझाव व शिकायतें अवश्य भेजकर मेरा मार्गदर्शन करें.

# निष्पक्ष, निडर, अपराध विरोधी व आजाद विचारधारा वाला प्रकाशक, मुद्रक, संपादक, स्वतंत्र पत्रकार, कवि व लेखक रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" फ़ोन: 09868262751, 09910350461 email:sirfiraa@gmail.com, महत्वपूर्ण संदेश-समय की मांग, हिंदी में काम. हिंदी के प्रयोग में संकोच कैसा,यह हमारी अपनी भाषा है. हिंदी में काम करके,राष्ट्र का सम्मान करें.हिन्दी का खूब प्रयोग करे. इससे हमारे देश की शान होती है. नेत्रदान महादान आज ही करें. आपके द्वारा किया रक्तदान किसी की जान बचा सकता है.