पढ़ाई और जीवन में क्या अंतर है? स्कूल में आप को पाठ सिखाते हैं और फिर परीक्षा लेते हैं. जीवन में पहले परीक्षा होती है और फिर सबक सिखने को मिलता है. - टॉम बोडेट

Thursday, January 28, 2010

हल्दीराम भुजियावाला का मालिक हत्या के प्रयास में दोषी


हल्दीराम भुजियावाला की प्रतिष्ठित खाद्य पदार्थ श्रृंखला के मालिक प्रभुशंकर अग्रवाल और चार हिस्ट्रीशीटरों को षडयंत्र और हत्या के प्रयास के लिए अदालत ने दोषी ठहराया है। सजा की घोषणा 29 जनवरी को होगी। कोलकाता के बड़ा बाजार में हल्दीराम की दुकान के सामने स्थित चाय की दुकान के मालिक ने इन सभी के खिलाफ हत्या के प्रयास का मामला दर्ज कराया था।

गौरतलब है कि प्रभुशंकर अग्रवाल बड़ा बाजार में एक फूड प्लाजा का निर्माण करवाना चाहते थे। लेकिन उस भूखंड के ठीक सामने सत्यनारायण शर्मा की चाय की दुकान थी। वह अपनी दुकान को हटाने को राजी नहीं हुआ। 30 मार्च, 2005 को हिस्ट्रीशीटर गोपाल तिवारी ने घर में घुसकर सत्यनारायण के भतीजे प्रमोद शर्मा को करीब से गोली मार दी। संयोगवश वह बच गया। गोली उसके पैर में लगी थी। प्रमोद की शिकायत पर पुलिस ने प्रभुशंकर अग्रवाल को गिरफ्तार किया था। पूछताछ के दौरान वारदात में हिस्ट्रीशीटर गोपाल तिवारी, राजा सोनकर, मनोज ठाकुर और अरुण खंडेलवाल शामिल पाए गए। बाद में अग्रवाल को जमानत पर रिहा कर दिया गया था। जस्टिस तपन सेन की फास्ट ट्रैक कोर्ट ने बुधवार को मामले की सुनवाई के दौरान पांचों को दोषी पाया।

1 टिप्पणियाँ:

नरेश सिह राठौङ said...

आपके बलोग पर पहली बार आया हूँ आपके ब्लॉग का टेम्पलेट मुझे बहुत ही सादगी भरा लगा जो कि बहुत जल्दी डाऊनलोड हो जाता है और देखने में भी अच्छा लगता है | अगर इसका टाईटल भी हिन्दी में होता तो और भी अच्छा होता |