पढ़ाई और जीवन में क्या अंतर है? स्कूल में आप को पाठ सिखाते हैं और फिर परीक्षा लेते हैं. जीवन में पहले परीक्षा होती है और फिर सबक सिखने को मिलता है. - टॉम बोडेट

Thursday, September 9, 2010

शीर्ष न्यायालय का फ़ैसला यमुना एक्सप्रेसवे के पक्ष में

उत्तर प्रदेश की मायावती सरकार को भारी राहत प्रदान करते हुए उच्चतम न्यायालय ने करोडों रूपये की यमुना एक्सप्रेस वे परियोजना के लिए बुधवार मार्ग प्रशस्त कर दिया.

शीर्ष न्यायालय ने गेट्रर नोएडा को आगरा से जोडने वाली इस परियोजना के लिए 1604 हेक्टेयर निजी भूमि के अधिग्रहण के फ़ैसले को सही ठहराया है.       

न्यायमूर्ति वी एस सिरपुरकर और न्यायमूर्ति सी जोसेफ़ की पीठ ने इस मामले में असंतुष्ट भूमि मालिकों द्वारा दायर की गयी विभिन्न याचिकाओं को खारिज कर दिया. याचिकाओं में आरोप लगाया गया था कि एक निजी कंपनी जे पी इन्फ्राटेक लि को फ़ायदा पहुंचाने के लिए पक्षपातपूर्ण तरीके से शक्तियों का इस्तेमाल किया गया और उसमें कोई जनहित शामिल नहीं था.       

शीर्ष न्यायालय ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय के इस निष्कर्ष से सहमति जतायी कि इस परियोजना से लाखों लोगों को फ़ायदा मिलेगा. यह बात उन कुछ चंद असंतुष्ट व्यक्ितयों से ज्यादा महत्वपूर्ण है जिनकी दुकानें, व्यावसायिक प्रतिष्ठान या मकान परियोजना को साकार रूप देने के लिए ध्वस्त किये जायेंगे.      

न्यायमूर्ति सिरपुरकर ने पीठ की ओर से फ़ैसला लिखते हुए कहा कि एक्सप्रेस वे बेहद लोक महत्व का कार्य है. राज्य ही नहीं आम जनता को भी एक्सप्रेस वे के निर्माण से लाभ मिलेगा. तेजी से आवाजाही करने वाले यातायात के लिए परिपथ बनाने से यात्रा एवं वस्तुओं के परिवहन का समय कम होग

1 टिप्पणियाँ:

रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" said...

काफी अच्छा फैसला दिया है जो जनहित को लेकर बहुत जरूरी था.
आम आदमियों की परेशानियों को लेकर क़ानूनी समाचारों पर बेबाक टिप्पणियाँ (2) पढ़ें. उच्चतम व दिल्ली उच्च न्यायालय को भेजें बहुमूल्य सुझाव पर अपने विचार प्रकट करने हेतु मेरे ब्लॉग http://rksirfiraa.blogspot.com & http://sirfiraa.blogspot.com देखें. अच्छी या बुरी टिप्पणियाँ आप करें और अपने दोस्तों को भी करने के लिए कहे.अपने बहूमूल्य सुझाव व शिकायतें अवश्य भेजकर मेरा मार्गदर्शन करें.
# निष्पक्ष, निडर, अपराध विरोधी व आजाद विचारधारा वाला प्रकाशक, मुद्रक, संपादक, स्वतंत्र पत्रकार, कवि व लेखक रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" फ़ोन: 09868262751, 09910350461 email: sirfiraa@gmail.com, महत्वपूर्ण संदेश-समय की मांग, हिंदी में काम. हिंदी के प्रयोग में संकोच कैसा,यह हमारी अपनी भाषा है. हिंदी में काम करके,राष्ट्र का सम्मान करें.हिन्दी का खूब प्रयोग करे. इससे हमारे देश की शान होती है. नेत्रदान महादान आज ही करें. आपके द्वारा किया रक्तदान किसी की जान बचा सकता है.