पढ़ाई और जीवन में क्या अंतर है? स्कूल में आप को पाठ सिखाते हैं और फिर परीक्षा लेते हैं. जीवन में पहले परीक्षा होती है और फिर सबक सिखने को मिलता है. - टॉम बोडेट

Sunday, September 26, 2010

सदन में अयोग्य ठहराए गए अमर सिंह न्यायालय पहुंचे

समाजवादी पार्टी से निष्कासित राज्यसभा सांसद अमर सिंह ने सदन से अयोग्य ठहराये जाने के मामले में उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है।

श्री सिंह ने अपनी याचिका में कहा है कि पार्टी से निष्कासित किये जाने के बाद उन्हें निर्दलीय सदस्य का दर्जा प्राप्त हो चुका है और पार्टी का व्हिप मानने के लिए वह बाध्य नहीं हैं।

उनकी दलील है कि संविधान की दसवीं अनुसूची के तहत कोई सांसद या विधायक जब अपनी मर्जी से पार्टी छोडता है तो उसे अयोग्य ठहराये जाने का प्रावधान है। लेकिन जब किसी सांसद या विधायक को पार्टी से निकाला जाता है तो उसे अयोग्य नहीं ठहराया जा सकता।

उनकी इस याचिका की सुनवाई संभवतः अगले सप्ताह होगी।

1 टिप्पणियाँ:

हमारीवाणी.कॉम said...

क्या आप भारतीय ब्लॉग संकलक हमारीवाणी के सदस्य हैं?

हमारीवाणी पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि