पढ़ाई और जीवन में क्या अंतर है? स्कूल में आप को पाठ सिखाते हैं और फिर परीक्षा लेते हैं. जीवन में पहले परीक्षा होती है और फिर सबक सिखने को मिलता है. - टॉम बोडेट

Sunday, July 5, 2009

आसाराम बापू के आश्रम में काला जादू होने बाबत शपथ पत्र न्यायालय में प्रस्तुत।


पिछले साल दो छात्रों की रहस्यमय हालात में हुई मौत के मामले में आसाराम बापू का आश्रम एकबार फिर संदेह के घेरे में आ गया है। मामले की जांच कर रही सीआईडी ने कहा है कि आश्रम के भीतर काला जादू किया जाता रहा होगा।

गौरतलब है कि आसाराम बापू के गुरुकुल में पढ़ाई कर रहे दीपेश और अभिषेक वाघेला नाम के दो छात्रों की पिछले साल मौत हो गई थी। गुजरात हाईकोर्ट में सीआईडी की ओर से दाखिल हलफनामे में कहा गया है कि आश्रम के कुछ शिष्य इसके बारे में जानते थे और इस सूचना को छिपाने की कोशिश कर रहे थे।

मामले के जांच अधिकारी एच बी राजपूत ने कहा था कि इस निष्कर्ष पर सीआईडी तीन शिष्यों के लाई डिटेक्टर टेस्ट के बाद पहुंची। उन्होंने गुरुवार को कोर्ट में हलफनामा दायर किया था। इन शिष्यों के नाम मिनकेतन पात्र, विकास खेमका और उयर संघानी है। जब दोनों छात्रों की रहस्यमय तरीके से मौत हुई तो वे आश्रम में उपस्थित थे।

1 टिप्पणियाँ:

Nirmla Kapila said...

मेरा मानना है इक ऐसे सभी आश्रम बंम्द होने चाहिये ये लो्ग धर्म के नाम पर केवल अपना प्रचार प्रसार करते हैं इनके कीर्तन सभाओं मे केवल इनके बडे 2 फोटो होते हैं और नीछे कहीं छोती सी किसी देवि देवता की तस्वीर मारे शर्म के छुपी सी बैठी रहती है आरती भीिन के नाम की होती है ये लोग लोगों को अध्यात्म तक पहुन्चने ही नहीं देते बस धर्म तक ही सीमित रखते हैं ऐसी दुकान्दारियाँ बँद होनी चाहिये